in

कुवैत और किर्गिस्तान में फंसे राजस्थान के 295 से ज्यादा प्रवासी घर लौटे

कुवैत और किर्गिस्तान

जोधपुर के सांसद और केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के प्रयासों के चलते राजस्थान के 295 से ज्यादा प्रवासी घर लौट आए हैं। ये सभी कुवैत और किर्गिस्तान में फंसे हुए थे।

भाजपा के संभाग मीडिया प्रमुख अचल सिंह मेड़तिया ने बताया कि वैश्विक महामारी के बाद से विदेश में फंसे राजस्थानी प्रवासियों को यहां लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत इसके लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं। ( कुवैत और किर्गिस्तान )

गत दो-तीन दिनों में ही अनेक प्रवासी पहुंचे हैं। इनमे से कामगार व विद्यार्थी हैं। कुवैत से आने वाले कामगारों में अजमेर के दो, बांसवाड़ा के 41, बाड़मेर के दो, बीकानेर का एक, चूरु के 11, धौलपुर का एक, डूंगरपुर के 55, हनुमानगढ़ के पांच, जयपुर के छह, झुंझुनूं के 14, कोटा के दो, नागौर के पांच, प्रतापगढ़ के छह, राजसमंद का एक, सीकर के 27 और उदयपुर के 16 कामगार शामिल हैं।

कुवैत से स्वदेश लौटे राजस्थान के सैम कलाल ने ट्वीट करके केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत का धन्यवाद भी दिया।( कुवैत और किर्गिस्तान )

किर्गिस्तान से आए 100 विद्यार्थी

इसके अलावा किर्गिस्तान में 100 छात्र-छात्राओं के विदेश में फंसे होने की जानकारी मिली तो केंद्रीय मंत्री शेखावत मदद को आगे आए। किर्गिस्तान में भारतीय राजदूत आलोक अमिताभ डिमरी से सीधी बातचीत की।

डिमरी ने आश्वासन दिया कि उन्होंने फ्लाइट राजस्थान के छात्रों को भारत भेजने के लिए लगाई है। बहुत जल्दी सारे छात्र अपने घर पहुंच जाएंगे। कोरोना संकट के दौरान विदेशों में फंसे प्रवासी भारतीय की स्वदेश वापसी के प्रयास केंद्रीय मंत्री शेखावत के माध्यम से हो रहे हैं। वो अब तक 600 से ज्यादा लोगों को वतन वापसी करा चुके हैं।( कुवैत और किर्गिस्तान )

गौरतलब है कि राजस्थान में मंगलवार को कोरोना के 354 नए मामले सामने आए हैं और आठ मौतें हुई हैं। प्रदेश में अब तक 18014 संक्रमित पाए गए हैं और कोरोना से 413 मौतें हुई हैं। वहीं, अजमेर में मंगलवार को सात कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। एक अधेड़ महिला की मौत हो गई है।

कुल कोरोना मरीजों का आंकड़ा 521 के पार पहुंच गया है तो कोरोना से मरने वाले भी 21 हो गए हैं। जिस अधेड़ महिला की मौत होना बताया जा रहा है, उसको किडनी की बीमारी भी थी। यह महिला एक माह से डालिसिस भी करा रही थी।

उपखंड अधिकारी एवं उप जिला मजिस्ट्रेट डॉ आर्तिका शुक्ला ने अजमेर के रामगंज व अलवरगेट पुलिस थाना क्षेत्रों के कुछ इलाकों में धारा 144 लागू करते हुए जीरो मोबिलिटी क्षेत्र घोषित किया है।

( कुवैत और किर्गिस्तान )

What do you think?

Written by priyanka singh

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
बिना आवेदन मांगे ही रिटायर्ड

बिना आवेदन मांगे ही रिटायर्ड अधिकारी को एक ही दिन में दे दी गई नियुक्ति

आरएलपी का भाजपा में विलय नहीं होगा

आरएलपी का भाजपा में विलय नहीं होगा, पंचायत चुनाव अकेले लड़ेगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी