in

मिशन वंदे भारत / आज पहला विमान कुवैत के 170 प्रवासी भारतीयों को लेकर रवाना होगा, उदयपुर में लैंडिंग होने पर संशय

मिशन वंदे भारत
मिशन वंदे भारत / आज पहला विमान कुवैत के 170 प्रवासी भारतीयों को लेकर रवाना होगा, उदयपुर में लैंडिंग होने पर संशय
  • जब तक डीजीसीए से इमीग्रेशन-कस्टम की अप्रूवल नहीं, तब तक इंटरनेशनल फ्लाइट्स की लैंडिंग नहीं : डीसी भाले
  • अप्रूवल नहीं मिलने पर जयपुर में लैंड करेगा विमान, वहां से बस और दूसरे साधनों से उदयपुर आएंगे प्रवासी

उदयपुर. वंदे भारत मिशन के तहत कुवैत से मेवाड़-वागड़-मालवा के 1700 प्रवासी भारतीयों काे लेकर महाराणा प्रताप डबोक एयरपोर्ट पर लैंड करने वाले विमानों का मामला अभी तक राज्य और केंद्र सरकार के बीच अधर में लटका हुआ है। ( मिशन वंदे भारत )

संभागीय आयुक्त विकास एस भाले ने बताया कि प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार के डीजीसीए से इमीग्रेशन और कस्टम की अप्रूवल मांगी है। जब तक इमीग्रेशन और कस्टम की मंजूरी नहीं मिलेगी तब तक यहां इंटरनेशनल फ्लाइट्स की लैंडिंग नहीं करा पाएंगे।

यदि अप्रूवल नहीं मिल पाती है तो विमान जयपुर में लैंड करेगा, जहां से प्रवासियों को बस या अन्य साधनों से उदयपुर लाना हाेगा।( मिशन वंदे भारत )

दूसरी तरफ एयरलाइंस ने शिड्यूल जारी कर एलान कर दिया है कि पहला विमान कुवैत के समयानुसार शुक्रवार सुबह 11.05 बजे करीब 170 प्रवासी भारतीयों को लेकर उदयपुर के लिए उड़ान भरेगा, जो शाम 5.30 बजे उदयपुर पहुंचेगा।   वंदे भारत मिशन के तहत डबाेक एयरपोर्ट पर 9 जुलाई तक खाड़ी देशों से इंटरनेशनल फ्लाइट्स आएंगी।

इसमें 3, 4, 5 जुलाई काे इंडिगो एयरलाइन कुवैत से प्रतिदिन एक फ्लाइट का संचालन करेगी। जाे शाम 5.30 डबाेक एयरपोर्ट पहुंचेगी। एयर इंडिया इंटरनेशनल फ्लाइट्स का संचालन करेगी, लेकिन इसका शेड्यूल फिलहाल आना बाकी है। एयरपोर्ट डायरेक्टर नंदिता भट्ट का कहना है कि एयरपोर्ट अथॉरिटी डबोक ने एयरपोर्ट पर इंटरनेशनल फ्लाइट्स के आवागमन की पूरी तैयारियां कर ली हैं।( मिशन वंदे भारत )

एयरपाेर्ट प्रशासन, सीआईएसएफ और एयरलाइन स्टाफ की पूरी तैयारी 
काेराेना काल में उदयपुर एयरपोर्ट पर पहली इंटरनेशनल फ्लाइट काे लेकर एयरपोर्ट प्रशासन, सीआईएसएफ और एयरलाइन स्टाफ ने पूरी तैयारी कर ली हैं। एयरपोर्ट डायरेक्टर नंदिता भट्ट, ऑपरेशन हैड गाैरव सक्सेना, टर्मिनल मैनेजर रामस्वरूप, भावना सुथार टर्मिनल में कस्टम और इमिग्रेशन के काउंटर काे लेकर उचित व्यवस्था कर चुके हैं।

इसके साथ ही एयरपोर्ट आने वाले यात्रियों के सामान काे सेनेटाइज करने की व्यवस्था के साथ सीआईएसएफ भी डिप्टी कमांडेंट अतुल भनाेत्रा और असिस्टेंट कमांडेंट विपुल सैनी के नेतृत्व में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर चुका हैं। बुजुर्गों को सुरक्षित टर्मिनल से बाहर निकालने के लिए एयरलाइन स्टाफ ने पीपीई किट के साथ कर्मचारी तैनात कर रखे हैं।

प्रवासी श्रमिकों की एयरपोर्ट पर ही स्क्रीनिंग की जाएगी
चिकित्सा विभाग प्रवासी भारतीयों की डबोक एयरपोर्ट के टर्मिनल में ही स्क्रीनिंग करेगा। यात्रियों को हवाई जहाज से 30-30 के बैच में ही निकाला जाएगा। क्योंकि टर्मिनल में स्क्रीनिंग के साथ ही कस्टम और इमिग्रेशन के काउंटर होने से जगह की कमी आएगी। ( मिशन वंदे भारत )

स्क्रीनिंग दौरान यहां पर यात्रियों में किसी भी प्रकार के संक्रमण के लक्षण आने पर उसे आईसोलेट करते हुए उसी दिन चिकित्सालय भेज सेंपलिंग करवाई जाएगी। शेष यात्रियों से आवश्यक औपचारिकताएं पूर्ण करवाने के बाद बसों के माध्यम से क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया जाएगा।

कस्टम आबकारी ताे इमिग्रेशन सीआईडी देखेगा
 महाराणा प्रताप एयरपोर्ट इंटरनेशनल नहीं है, इस कारण यहां पर कस्टम और इमिग्रेशन का काेई स्थायी स्टाफ नहीं हैं। हालांकि एयरपोर्ट पर इंटरनेशनल फ्लाइट डील करने के लिए अतिरिक्त स्टाफ है। लेकिन वह सिर्फ छाेटी चार्टर फ्लाइट्स के लिए हैं। ऐसे में शुक्रवार से आने वाले प्रवासियों के लिए कस्टम का कार्य राज्य आबकारी विभाग और इमिग्रेशन सीआईडी देखगी। 

  • फ्लाइट्स के लिए हैं। ऐसे में शुक्रवार से आने वाले प्रवासियों के लिए कस्टम का कार्य राज्य आबकारी विभाग और इमिग्रेशन सीआईडी देखगी। 
( मिशन वंदे भारत )

What do you think?

Written by priyanka singh

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
ऐसे नहीं हारेगा कोरोना

ऐसे नहीं हारेगा कोरोना / खुले में फेंक रहे संक्रमित पीपीई किट और मास्क

गुरुपूर्णिमा

गुरुपूर्णिमा / गुरु होगे माेबाइल पर, लाइव आशीर्वाद भी मिलेगा