in

सुसाइड केस / लॉकडाउन में कर्ज का ब्याज तक नहीं दे पा रहा था परिवार, पिता-पुत्र फंदे पर झूले, पत्नी को भी गला घोंटकर मारा

सुसाइड केस

जोधपुरजोधपुर में रहने वाले एक परिवार ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। परिवार के तीनों सदस्यों के शव पुलिस ने बरामद कर लिए हैं। ( सुसाइड केस )

सुसाइड नोट में परिवार के मुखिया ने कर्ज से परेशान होने की बात कही है। इस परिवार में पिता और पुत्र फर्नीचर का काम करते थे, जबकि पत्नी घर का कामकाज देखती थी। एसीपी नीरज शर्मा ने बताया कि बेटे नितिन ने पहले फंदा लगाया फिर पति राजेंद्र सुथार ने पत्नी इंद्रा का गला घोंट मौत के घाट उतारा।

सुथार परिवार में राजेन्द्र पत्नी इंद्रा और बेटे नितिन के साथ किराए से रहते थे। पिता और पुत्र फर्नीचर बनाने का काम करते थे और खुद का घर लेना चाहते थे। पर लॉकडाउन के कारण उनका काम पूरी तरह बंद हो गया और नया घर लेना तो दूर उनके लिए कर्ज का ब्याज चुकाना भी मुश्किल हो गया और अंत में पूरे परिवार ने सुसाइड करने का फैसला लिया।( सुसाइड केस )

गुरुवार की रात तक सब कुछ सामान्य था। राजेन्द्र फैक्ट्री से लौटने के बाद लोगों के साथ बैठे थे, पत्नी इंद्रा खाना खाकर रोज की तरह अन्य महिलाओं के साथ पार्क में इवनिंग वॉक कर रहीं थीं। बेटा नितिन भी फैक्ट्री से आने के बाद दोस्तों के साथ घूमने निकला था। रात साढ़े दस बजे नितिन के दोस्त उसे घर के बाहर छोड़कर गए थे। यहां तक सबकुछ ठीक था।( सुसाइड केस )

रात 11 बजे तीनों घर गए। सबने साथ खाना खाया। रात 12 बजे के बाद नितिन ने पीछे कमरे में फंदा लगाया। फिर राजेन्द्र ने पत्नी का गला घोंटा व खुद भी फंदे से झूल गया।

पुलिस मौके पर पहुंची तब तक टीवी ऑन था। घर में पुलिस को 4 मोबाइल मिले हैं। 2 मोबाइल नितिन के थे। 1 मोबाइल पिता व 1 मां का था। 2 मोबाइल की स्क्रीन टूटी थी। संदेह है कि सुसाइड से पहले पति-पत्नी के बीच झगड़ा हुआ था। पुलिस ने तीनों के शव एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए हैं। शनिवार को तीनों शव का पोस्टमार्टम किया जाएगा।

सुसाइड नोट में महिला का नाम लिखा

चौहाबो थानाधिकारी गोविंद व्यास ने बताया कि राजेंद्र ने सुसाइड नोट में कर्ज नहीं चुकाने की बात लिखी है। उन्होंने लिखा है कि वो परेशान हो गया है और कर्ज का ब्याज तक नहीं दे पा रहा है। सुसाइड नोट में महिला का नाम लिखा है। पुलिस को एक डायरी भी मिली है। पुलिस इससे अब जानने में जुटी है कि रुपए किस-किस से लिए और कितने थे।( सुसाइड केस )

जानिए… एक परिवार यूं कर्ज और लॉकडाउन के जाल में उलझा 

1. फर्नीचर बनाने के काम में बेटे को भी साथ जोड़ा
मूलत: भोपालगढ़ के हीरादेसर हाल शंकर नगर निवासी मृतक राजेंद्र सुथार ने जब से होश संभाला, तब से फर्नीचर का काम करने लगे। पत्नी-बेटे के साथ किराए के मकान में रहते। बेटे के सपने पूरे करने व परिवार की माली हालत को सुधारने काे परिवार संघर्ष करता। 25 साल के नितिन भी पिता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर फर्नीचर का काम करने लगा। लेकिन परिवार की हालत में सुधार नहीं आया। 

2. घर का मकान व बेटे की शादी के सपने थे
मृतका इंद्रादेवी पति राजेंद्र से खुद का मकान होने की बात कहती। इस बात पर दोनों के बीच कई बार वाद-विवाद भी होता था। लेकिन राजेंद्र जानते थे कि मकान लेने के लिए लाखों रुपए चाहिए, जो उनके पास नहीं थे। पिता-पुत्र दोनों मिलकर काम करते फिर भी बीस कभी पच्चीस हजार रुपए से ज्यादा नहीं कमा पाते थे। 

3. माह पड़े भारी, कर्ज का ब्याज चुका नहीं पाए
लॉकडाउन के चलते फैक्ट्री बंद होने से काम पूरा ठप था। इंद्रादेवी के पिता हनुमान ने बताया कि बेटा सूरज बेटी इंद्रा के घर के एक हिस्से में फर्नीचर का खुद का काम करता था। लॉकडाउन के दौरान उनके कहने पर सूरज ने राशन सामग्री इंद्रा के घर पहुंचा दिया करता था। लेकिन जिन लोगों से कर्ज ले रखा था, उनका ब्याज का पैसा देना इंद्रा ने कभी पिता व भाई सूरज को नहीं बताया।  ( सुसाइड केस )

परिजन बोले-सबकुछ ठीक था ये अनहोनी कैसे हो गई

शादी को 26 साल हो गए थे। बेटी ने कभी परेशान होने की बात नहीं बताई। हालांकि कई बार गेहूं गांव से भेजा करता था। परिवार में तीन जने ही थे। सबकुछ ठीक ही चल रहा था। पता नहीं ये सब अचानक कैसे हो गया।
हनुमान सुथार, मृतका के पिता( सुसाइड केस )

( सुसाइड केस )

What do you think?

Written by priyanka singh

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
राजस्थान सहित 4 राज्यों में भूकंप के झटके

राजस्थान सहित 4 राज्यों में भूकंप के झटके / जयपुर और झुंझुनूं में ज्यादा दिखा असर, अलवर में था 4.7 तीव्रता वाले भूकंप का केंद्र

विधायक को जान से मारने की धमकी

विधायक को जान से मारने की धमकी / पूर्व ओलंपियन कृष्णा पूनिया को डिप्टी सीएम पायलट की तरह जेड श्रेणी की सुरक्षा मिली, हर माह खर्च होंगे 20 लाख